E-Passport Kya Hai, कैसे काम करता है, क्या फायदे हैं, कौन बनवा सकता है और कब जारी होंगे? सभी जानकारी जाने!

0
57

नमस्कार दोस्तों। क्या आप जानना चाहते है कि E-Passport Kya Hai। जब से हमारे इंडिया के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने बजट सेशन (2022-2023) के दौरान जब से E-Passport को लॉन्च करने की बात कही है। तब से सभी E-Passport के बारे में बात कर रहे है। और जानना चाहते है को E-Passport क्या है, E-Passport कैसे काम करता है।

आज हम इस लेख के अंदर आपको बताएंगे कि क्या होता है E-Passport? और यह किस तरह से काम करता है। E-Passport को सरकार अंतरराष्ट्रीय गाइडलाइन के तहत लॉन्च करने वाली है।

e-Passport क्या है, कैसे काम करता है जाने

E-Passport के अंदर एक चिप लगा हुआ होगा। जो आपके सभी जानकारी को डिजिटल तरीके से स्टोर करने में सक्षम होगा।

हालांकि E-Passport को हमारे इंडिया के अंदर लॉन्च करने की बात 2017 से ही हो रही थी। लेकिन E-Passport 2022 या 2023 के अंदर लॉन्च हो जाएगा। E-Passport आने के बाद जो लोग विदेशों में ज्यादा ट्रैवलिंग करते है उनके लिए E-Passport काफी ज्यादा मदद करेगा और यह इमिग्रेशन के समय को भी कम करने में यात्रियों की मदद करेगा।

E-Passport Radio फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन और बायोमेट्रिक डाटा से लैस होगा। इसके अंदर आपके सभी डाटा जैसे नाम, फोटो, सिग्नेचर, एड्रेस और माता पिता के नाम को E-Passport के अंदर स्टोर किया जाएगा।

Budget 2022 में कई सारे चीजें के बारे में आपको पता होनी चाहिए, अगर आपको Budget 2022 In HIndi Pdf Download करना है तो आर्टिकल पढ़ सकते है।

आइए अब जानते है कि ई-पासपोर्ट क्या है

यह भी पढ़े: RBI Digital Rupee Kya Hai और Digital Rupee कैसे काम करता है, साथ-साथ क्रिप्टोकरेंसी और डिजिटल रुपी में क्या अंतर है? सभी जानकारी

E-Passport कैसे काम करेगा?

E-Passport में फ्रंट और बैक साइड के कवर मोटे हो सकते है। और इसमें प्रिंट की क्वालिटी भी अच्छी हो सकती है। E-Passport की खास बात यह है कि इसमें एक माइक्रो चिप लगाया जाएगा।

जिसमें नागरिकों और यात्रियों के सभी डिटेल जैसे कि नाम, पता, एड्रेस, सिग्नेचर, फिंगरप्रिंट और फोटो को स्टोर किया जाएगा। जिससे इमिग्रेशन के समय लोगो का काफी समय बचेगा। और इससे जो लोग फर्जी पासपोर्ट बनाकर बेचते थे। वो E-Passport नहीं बना पाएंगे। E-Passport आने के बाद होने वाले क्राइम भी काफी ज्यादा कम हो जाएगा।

E-Passport को नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी कानपुर के द्वारा E-Passport को बनाया जाएगा। E-Passport के पीछे के कवर में एक सिलिकॉन चिप को एंबेड किया जाएगा जिससे इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर कुछ सेकंड के अंदर पासपोर्ट को स्कैन कर लिया जाएगा।

E-Passport के साथ किसी भी तरह का छेड़छाड़ कोई नहीं कर पाएगा इससे पासपोर्ट में होने वाले फ्रॉड में भी कमी आयेगी। आइए अब जानते है कि E-Passport के फायदे किया है।

इसे भी पढ़े: One Digital Id Kya Hai – सरकार One Digital ID लाने वाली है, जिसमें आधार कार्ड, PAN कार्ड, पासपोर्ट, वोटर आईडी लिंक कर सकते है?

E-Passport के क्या फायदे है?

-अब हम आपको बताएंगे कि E-Passport से क्या क्या फायदा हो सकता है।

-E-Passport लॉन्च होने के बाद जो भी यात्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट से विदेश यात्रा करते थे उनके इमिग्रेशन में काफी ज्यादा समय की बचत होगी।

-E-Passport आने के बाद जो लोग फर्जी पासपोर्ट बनाकर सेल करते थे वो अब फर्जी पासपोर्ट नहीं बना पाएंगे।

-E-Passport के जरिए किसी भी नागरिक या फिर अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के डिटेल्स को स्टोर किया जा सकता है।

-E-Passport के अंदर एक सिलिकॉन चिप लगा हुआ होगा जिसमें 64 Kb तक का डाटा को आसानी से स्टोर किया जाएगा।

-इसमें किसी भी यात्री के पिछले 30 विजिट के डाटा को स्टोर किया जाएगा।

-अगर आपका पासपोर्ट कहीं खो जाता है फिर भी आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है यह एक डिजिटल पासपोर्ट की तरह काम करेगा और आपके सभी जानकारी Digitally सेव किया जाएगा।

-E-Passport के सिलिकॉन चिप के साथ कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार का कोई छेड़ छाड नहीं कर पाएगा।

यह भी जानिये: E RUPI Kya Hai aur E RUPI Kaise Kaam Karta Hai

E-Passport की सुविधा कितने देशों में मौजूद है?

E-Passport की सुविधा अभी तक 120 से भी ज्यादा देशों के अंदर मौजूद है। जिसमें अमेरिका, जर्मनी, यूरोप, जापान और ब्रिटेन देश शामिल है। लेकिन अगर बात करें कि सबसे पहले किस देश ने E-Passport को लॉन्च किया था तो वो है मलेशिया।

मलेशिया से सन 1998 में अपने देश के नागरिकों के लिए E-Passport की सुविधा को मुहैया कराया था। और अब हमारे देश के अंदर भी E-Passport की सुविधा लॉन्च होने जा रही है। आइए अब जानते है कि E-Passport आम नागरिकों को कब तक मिलेगा।

यह भी पढ़े:

E-Passport आम नागरिकों को कब तक मिलेगा?

अब आपके मन में यह सवाल चल रहा होगा कि आखिर E-Passport को आम नागरिकों के लिए कब तक लॉन्च किया जाएगा।

आपको बताना चाहूंगा की E-Passport लॉन्च होने के बाद सबसे पहले E-Passport की सुविधा डिप्लोमेटिक और ऑफिशियल्स को मिलने वाले है। उसके बाद जाकर ई-पासपोर्ट को आम नागरिकों के लिए लॉन्च किया जाएगा।

Conclusion (निष्कर्ष)

आशा करता हूं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपके सारे डाउट क्लियर हो गए होंगे की E-Passport Kya Hai। अगर फिर भी आपके मन में कोई सवाल चल रहा है तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते हैं और यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

इस लेख को दूसरे के साथ भी साझा करें जिससे दूसरे लोगों को भी पता चलेगा कि E-Passport क्या है और कैसे काम करता है। धन्यवाद।

Frequently Asked Question

E-Passport सबसे पहले किस देश में लॉन्च किया गया था?

E-Passport लॉन्च करने वाला सबसे पहला देश है मलेशिया। मलेशिया देश में E-Passport की सुविधा को 1998 में सबसे पहले लॉन्च किया गया था।

क्या भारत में कभी E-Passport जारी किया गया था?

जी हां भारत में पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल के लिए E-Passport को साल 2008 में लॉन्च किया गया था।

यह भी पढ़े:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here