Black Hat SEO और White Hat SEO में Difference क्या है? – पूरी जानकारी हिंदी में

0
24
Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai

SEO क्या हैं? और ब्लॉगर के लिए क्यों जरुरी हैं? जो की पिछले लेख में जाना था फिर भी आज में आपको बेसिक जानकारी दूंगा और Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai? कौन सा SEO ब्लॉगर के लिए सही हैं|

आपके पास SEO से रिलेटेड बहुत सारे सवाल होगा|में अपनी बात करे तो एसईओ बारेमे कुछ भी जानकारी पता नहीं था, जैसे-जैसे ब्लॉग्गिंग में टाइम बिता वैसे एसईओ विशेषज्ञ से रिलेटेड सभी सवाल का जवाब मिलता गया| इसलिए में इसके बारेमे जितना सिखा हु अच्छे से जानकारी दूंगा|

जब हम अपने ब्लॉग शुरू करते है तब “सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन” के  बारेमे कुछ भी पता नहीं होता और बहुत ऐसा गलती करते रहते जिसके नतीजे हमारा पोस्ट गूगल में रैंक नहीं होता|

SEO को अच्छे से समझने के बाद आज हम Black Hat and White Hat seo के बारेमे जानेंगे|और खासकर अपनी खुदकी ब्लॉग बनाए तो आपको White Hat seo पर फोकस करना होगा जिससे आपकी ब्लॉग की ट्रैफिक बढेगा|आपको पता ही है बिना मेहनत के कुछ भी नहीं मिलता आप अपने ब्लॉग पर जितना मेहनत करोगे उतना ही आप अपने ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ा सकते है और ब्लॉग्गिंग से पैसा कमा सकते हैं|

तो चलिए जानते हैं Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai के बारेमे|

Black Hat SEO And White Hat SEO क्यों जरुरी है?

ब्लॉग्गिंग की शुरुआती में हर किसीको पता नहीं होता है की Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai, यहा तक की जब में ब्लॉग्गिंग किया था तब ब्लॉग पर ट्रैफिक कैसे बढायें और ट्रैफिक ब्लॉग के लिए कितना जरुरी हैं| ब्लॉग पर एक organic traffic जितना रहेगा उतना ब्लॉग अच्छा रैंक करता हैं|

ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए बहुत से लोग लगभग $5-10 paid करके Backlinks बनाते है ट्रैफिक बढ़ाते हैं, लेकिन ऐसा करना सही नहीं हैं|

हर काम पैसे से नहीं होता, जबतक आप किसी चीज पर मेहनत नहीं करेंगे तबतक आपका कोई काम आगे नहीं जायेगा|वैसे तो पैसे देकर कर सकते है, लेकिन कुछ समय के लिए|

ब्लॉग्गिंग क्यों करना चाहिए जानकारी चाहते है तो पोस्ट पढ़ सकते है|

जो मेहनत से पाया उसकी सवाद कुछ और होती हैं, पैसे से ख़रीदा हुवा और मेहनत से पाया उसकी सवाद में जमीन आसमान की फरक होती हैं|आज में आपको बताऊंगा की आप मेहनत से अपने ब्लॉग से बहुत फायदे ले सकते हैं| SEO में जो गलती करते हैं उसे रोखने के लिए जितना हो सके सभी समझाने की कोसिस करूँगा|

Black Hat SEO And White Hat SEO क्या होता हैं

Black Hat SEO क्या है?

Black Hat SEO meaning in hindi:ब्लैक हैट एसईओ” एक प्राकृतिक एसईओ तकनीक है जो खोज इंजन सिफारिशों का अनुपालन नहीं करती है और इसे Search Engine द्वारा ब्लॉग को बैन किया जा सकता है। ब्लॉग पोस्ट की जो टारगेट कीवर्ड है उसी पर SERPs रैंक कराए|

यह एक short-term strategy है, एक साइट जो खोज इंजन के निर्देशों का सम्मान नहीं करती है वह अपने आप को उन पोस्ट को सर्च इंजन पर रैंक नहीं करा सकते है|

White Hat SEO क्या है?

White Hat SEO meaning in hindi:  “व्हाइट हैट एसईओ” शब्द एसईओ युक्तियों को संदर्भित करता है जो Google सहित प्रमुख खोज इंजनों के नियमों और शर्तों के अनुरूप हैं।

White Hat SEO, Black Hat SEO के विपरीत है। आमतौर पर, सफेद टोपी एसईओ किसी भी अभ्यास को संदर्भित करता है जो आपकी वेबसाइट की अखंडता बनाए रखने और खोज इंजन की सेवा की शर्तों के भीतर रहते हुए खोज इंजन परिणाम पृष्ठ (SERP) पर आपकी खोज रैंकिंग में सुधार करता है। ये रणनीति Google द्वारा परिभाषित सीमा के भीतर रहती हैं।

जब भी अपने ब्लॉग के लिए एसईओ करे या किसी एजेंसी से एसईओ कराए तो व्हाइट हैट एसईओ करने के लिए बोले| अब जाने लेते है की Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai क्या हैं? – पूरी जानकारी हिंदी में

Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai?

हर पहलु का दो रास्ता होता हैं एक अच्छा बनना और एक बुरा| जो अच्छे रास्ते पर चलता है वह बहुत दिक्तो को सामना करना पड़ता है मगर बहुत दूर तक चलता है| लेकिन जो बुरा रास्ते पर चलता है वो कुछ दिन के लिए खुशी से चलता है मगर बहुत दूर तक नहीं|

में आपको यह कहने की कोसिस करता हु की ब्लॉग की रैंकिंग करने का कई सारे तरीके है Black Hai and white hat SEO. अच्छे से समझने के लिए निचे हर वह टॉपिक (SEO Techniques) जानेंगे जो इसके लिए जरुरी हैं|

Black Hat SEO Techniques:

#1. Meta Tags: Search Description

आप अपनी ब्लॉग जिस किसी टॉपिक पर शुरू करते है उसी से रिलेटेड कीवर्ड को meta tags में इस्तेमाल करना होगा|अगर आप ऐसा नहीं करते है और दुसरे कीवर्ड को meta tags में इस्तेमाल करते हैं तो आप Black Hat SEO की तरफ जाते हो| जो की आपकी ब्लॉग और पोस्ट के लिए बहुत बुरा हो सकता हैं| यह गलती खासकर नए ब्लॉगर करते हैं|

#2. Keyword Stuffing:

कीवर्ड स्टफिंग एक ब्लॉग पोस्ट में कई बार नहीं रख सकते है, “ब्लैक हैट” खोज इंजन अनुकूलन रणनीति है। हालांकि शुरुआती दिनों में कीवर्ड स्टफिंग काम करता था, पर अभी ब्लॉग के लिए कीवर्ड स्टफिंग कठोर Google दंड की संभावना है और इसे खोज रैंकिंग में सुधार करने के लिए एक प्रभावी तरीके के रूप में नहीं देखा जाता है।

हर चीज का कोई ना कोई लिमिट होता हैं, खाने का भी लिमिट होता हैं|अगर आप कोई एक keyword पर पोस्ट लिखते है और उससे वार-वार अपने पोस्ट में इस्तेमाल करते है तो आपकी वो पोस्ट keyword stuffing कहलाता हैं| keyword stuffing की लिमिट 2-3% होती हैं| इससे अछे से समझने के लिए निचे की आर्टिकल पढ़े|

  • Keyword Stuffing Kya Hai? Ye Kitni % honi Chahiye.

#3. Double Post:

अभी हर कोई अपने ब्लॉग पोस्ट को 1st. rank कराने की हर नामुमकिन कोसिस करते हैं| इसकी चकर में कोई अपने ब्लॉग पर Double post लिख देते है ताकि हमारी पोस्ट फीस्ट सर्च में आए, लेकिन इसका उल्टा होता है|

ब्लॉग एक ही कीवर्ड पर दूसरा पोस्ट लिखने से गूगल कंफ्यूज हो जाता है पोस्ट को किस कीवर्ड पर रैंक कराए, इसलिए गूगल रैंक करने की वजय डाउन कर देता है|

#4. Low-Quality Content

आपकी ब्लॉग के कुछ Low-Quality Content आपकी कंटेंट ब्लॉग की रैंकिंग को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। Google द्वारा आपकी Low-Quality Content वाली सामग्री का ध्यान रखने के लिए एक विशिष्ट सिफारिश यह है कि इसे पूरी तरह से हटा दे, नहीं तो Quality Content में बदल दे|

White Hat SEO Techniques:

#1. No Copyright: Khudka Content

White hat की बात करे तो उसका सबसे पहला और आखिर aspect हैं| अपने ब्लॉग को आगे तक ले जाना चाहते है तो खुदका आर्टिकल लिखे जो 100% ओरिजिनल लिखना होगा| व्हाइट हैट एसईओ अपने ब्लॉग पर करने के लिए सबसे पहले एक अच्छी क्वालिटी कंटेंट लिखना है|जिसकारण से Google आपकी वेबसाइट को पसंद करेगा और रैंक करेगा|

पोस्ट खुदसे लिखने से आप काफी खुच सीखते है और गूगल रैंक कराते हैं|

#2. Search Engine Guidelines:

Website/Blog की search engine performance को अच्छी करनी है, SEO Techniques को इस्तेमाल किया जाता हैं जो ब्लॉग के लिए काफी मद्दत करते है, लेकिन कई लोग इनका बिपरीत काम करते है तो यह उनके guidelines ko follow नहीं करते है तो आपकी ब्लॉगको खतरा हो सकता हैं|

#3. Good Quality Content:

आपको पता है कंटेंट इस किंग, आपकी ब्लॉग पर कंटेंट खोज इंजन के भीतर सबसे महत्वपूर्ण रैंकिंग कारकों में से एक है, और कई इसे भविष्य में और भी अधिक महत्वपूर्ण बनने की ओर रुझान देखते हैं।

हालांकि यह केवल “अच्छी” प्रासंगिक सामग्री लिखने के रूप में सरल नहीं है। Google का खोज इंजन विभिन्न संकेतों की एक श्रृंखला के आधार पर आपकी साइट सामग्री का मूल्यांकन करता है|

अपना कंटेंट होने के साथ-साथ अच्छी कंटेंट होनी चाहिए. अगर आपकी कंटेंट अछी तो Search Engine के साथ-साथ यूजर को भी पसंद आएगी, जिसके कारन से यूजर आपका ब्लॉग पर वार-वार विजिट करेगा|

अपनी ब्लॉग को अच्छे से डिजाईन करे इन तरीकों से

#4. Image:

Image post के लिए बहुत जरुरी हैं हर पोस्ट में एक इमेज इस्तेमाल करना जरुरी हैं इससे हमारी पोस्ट की लुकबढती है और गूगल को पसंद आती हैं|

गूगल की इमेज सर्च से भी आपकी ब्लॉग पर अधिक ट्रैफिक लाने में मद्दत कर सकता हैं। ब्लॉग पर जितने इमेज इस्तेमाल किये है उन सभी Alt टैग में अपनी टारगेट कीवर्ड से रिलेटेड टैग इस्तेमाल करे| में अपने इस ब्लॉग पर कई सारे पोस्ट पर इमेज सर्च ट्रैफिक कर रहे है|Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai

Last Word:

अपने ब्लॉग के लिए ब्लैक हैट एसईओ से दूर रखे क्योंकि Google इन मामलों में सतर्क है और आप अपनी साइट को ब्लैकलिस्ट कर सकते हैं। अगर कोई आपको बताता है कि वे कुछ ही समय में आपकी साइट को कीवर्ड के लिए जल्दी से रैंक कर सकते हैं, तो ऐसे एसईओ लोगों से सावधान रहें क्योंकि ज्यादातर मामलों में वे Black Hat SEO Techniques का उपयोग कर रहे हैं या आपको उन कीवर्ड के लिए रैंक करेंगे जो आपके लिए या कीवर्ड के लिए भी प्रासंगिक नहीं हैं।

व्हाइट हेट एसईओ रणनीति में खोज इंजन रैंकिंग में सुधार करने के लिए वेबसाइट पर स्वाभाविक रूप से बैकलिंक्स बढ़ाने के लिए एक वेबसाइट की उपस्थिति और प्राधिकरण का निर्माण करना शामिल है।

व्हाइट हैट एसईओ का उपयोग करने वाली ब्लॉग अनैतिक रूप से लिंक स्वैप करने या खरीदने के बजाय भरोसेमंद लिंक को अपनी वेबसाइट पर वापस लाने के लिए उच्च-गुणवत्ता की सामग्री, अतिथि ब्लॉग और सूचना प्रसारित कर सकती है।

तो आपने जाना की Black Hat SEO Vs White Hat SEO Me Kya Difference hai? ब्लॉगर के लिए क्यों जरुरी हैं? अगर आपके पास कोई सवाल है तो comment करके जरुर पूछे|

उम्मीद करता हु की यह जानकारी आपको अछि लगी होगी, अछि लगी है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे|

ब्लॉग्गिंग की पूरी जानकारी जानना चाहते है तो पोस्ट पढ़ सकते है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here